शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

हमने पहले ही कहा था

कि अगर इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने अयोध्या मामले का फैसला कुशलतापूर्वक सुनाया तो भारत में राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन भी सुखद रहेगा। हुआ भी यही। 28 सितम्बर को 'चलो! सब संभल कर' में हमने कहा था कि 30 सितम्बर तक अयोध्या मामला व राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन ही दो ऐसे मुद्दे हैं, जो देश भर में छाए हुए हैं। अयोध्या मामले के फैसले पर देश के हर क्षेत्र में शांति बरती गई, वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रमंडल खेलों में 38 स्वर्ण पदक जीत कर पदक तालिका में दूसरा स्थान हासिल किया। इतना ही नहीं, देश ने पहली बार पदकों का शतक भी पूरा किया। वैसे तो देश में सभी बड़ी परियोजनाओं को भ्रष्टाचार होता है, ऐसे में राष्ट्रमंडल खेलों को कौन बख्शता। अब अगर भ्रष्टाचार का यह मामला अदालत में पहुंच भी जाए, तो कोई बात नहीं। देश में बहुत सारे मामले पहले ही अदालतों में चल रहे हैं। इसका क्या निष्कर्ष निकलेगा, कोई नहीं जानता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

धोनी नहीं, यह है भारत की हार का असली जिम्मेदार

icc cricket world cup : विश्वकप के सेमी फाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड से भारत की हार का जिम्मेदार महान क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी का मान र...